रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद पर आया सुप्रीम कोर्ट का फैसला

Published : Nov 11, 2019 03:13 pm | By: News Mindset

32 views

अयोध्‍या राम की जन्‍मभूमि इस पर कोई सवाल नहीं है। बाबरी मस्जिद मीर बाकी ने बनवाई थी, बाबरी मस्जिद खाली जमीन पर नहीं बनी थी। ढांचे के नीचे मंदिर के सबूत मिले जमीन के नीचे गैर इस्‍लामिक ढाचा था।


मंदिर वही बनेगा... अयोध्या की विवादित 2.77 एकड़ ज़मीन रामलला को जाएगी... मुस्लिम पक्ष को कहीं और पांच एकड़ ज़मीन दी जाएगी. इलाहाबाद हाई कोर्ट की तरह इस बार ज़मीन का बंटवारा नहीं किया गया है... सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यों की बेंच ने आज यानी 9 नवंबर 2019 को अपना फैसला सुना दिया है... पांचों जजों ने सर्वसम्मति से ये फैसला लिया कि विवादित ज़मीन रामजन्मभूमि न्यास को जाएगी..अदालत ने कहा कि ज़मीन विवाद का फैसला कानूनी आधार पर लिया गया. कोर्ट ने कहा कि हिंदू अयोध्या को राम के जन्म का स्थान मानते हैं. अयोध्या राम की जन्मभूमि है, इसे लेकर कोई विवाद नहीं है. कोर्ट ने कहा कि आस्था और विश्वास पर भी कोई विवाद नहीं है. साथ ही ये भी कहा कि आस्था और विश्वास पर मालिकाना हक़ नहीं बनता है. इस फैसले में 2003 में जमा की गई ASI की रिपोर्ट के हवाले से कहा गया है कि ASI ने मुख्य गुंबद के नीचे हिंदू मंदिर होने की बात कही. मगर मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाए जाने की बात नहीं कही गई. ये भी कहा गया कि 12वीं और 16वीं सदी के बीच विवादित ज़मीन पर क्या था, इसके सबूत नहीं हैं. हालांकि अदालत ने ये भी कहा कि यात्रियों के वृत्तांत और पुरातात्विक साक्ष्य हिंदू पक्ष के साथ जाते हैं.

बाबरी के दौर में बनाई गई बाबरी मस्जिद.

2. मीर बाकी ने बाबर के ही समय में ये मस्जिद बनवाई.

3. बाबरी मस्जिद खाली ज़मीन पर नहीं बनी थी.

4. मस्जिद के नीचे विशाल रचना थी. ASI ने अपनी रिपोर्ट में वहां मंदिर होने की बात कही है.

5. खुदाई में जो मिला, वो इस्लामिक ढांचा नहीं है.

6.  बाबरी मस्जिद बनाने में पुरानी संरचना की चीजें इस्तेमाल हुईं. पुराने पत्थर, खंभे इस्तेमाल हुए.

7. ASI नहीं बता सका कि मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाई गई.

8. हिंदू अयोध्या को राम का जन्मस्थान मानते हैं.

9. अयोध्या में राम के जन्म के दावे का किसी ने विरोध नहीं किया.

10. विवादित जगह पर हिंदू पूजा करते रहे थे.

11. हिंदू मुख्य गुंबद को ही राम के जन्म का सही स्थान मानते हैं.

12. 1856 से पहले भी अंदरुनी हिस्से में हिंदू भी पूजा करते थे. रोकने पर बाहर चबूतरे पर पूजा करने लगे. फिर भी हिंदू मानते थे कि बाबरी मस्जिद के मुख्य गुंबद के नीचे गर्भगृह है.

13. अंग्रज़ों ने दोनों हिस्सों (अंदरुनी हिस्से में बनी बाबरी मस्जिद और बाहर बने राम चबूतरे) को अलग रखने के लिए रेलिंग बनाई थी.

14. 22-23 दिसंबर, 1949 की रात बाबरी मस्जिद के अंदर दो मूर्तियां रखी गईं.

इस मामले की सुप्रीम कोर्ट में 16 अक्टूबर 2019 को सुनवाई पूरी हो गई थी. लगभग 40 दिनों की इस मैराथन सुनवाई चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस एसए बोबड़े, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस अशोक भूषण, और जस्टिस एसए नज़ीर कर रहे थे. मामले कें तीन प्रमुख पक्ष हैं


Nationalmindset TV Analysis

Prediction        Result
View More

राजधानी दिल्ली में गणतंत्र दिवस को लेकर चाक चौबंद तैयारियां

मध्य प्रदेश: 8वीं पास पढ़ा रहा था सरकारी स्कूल में, कहा मिलते थे 4 हजार रु. महीना

कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने किया स्वराज कौशल पर पलटवार

'महाराष्ट्र में हुए गैर-भाजपा नेताओं के फोन टैप'

संजीव बालियान के बिगड़े बोल, कहा- पश्चिमी उत्तर प्रदेश के छात्रों का JNU और जामिया में 10 फीसदी आरक्षण करवा दें, वह सबका इलाज कर देंगे

सहयोगी पार्टी छोड़ने और किसी अन्य पार्टी के साथ जुड़ने के लिए स्वतंत्र: नीतीश कुमार

केंद्रीय मंत्री संजीव बाल्यान का विवादित बयान,कहा वेस्ट यूपी वाले कर देंगे राष्ट्र विरोधी नारे लगाने वालों का इलाज

भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध की आशंका को लेकर सुखोई-30 तैनात

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले में साकेत कोर्ट ने सुनाई सजा

जेपी नड्डा बने BJP के 11वें राष्ट्रीय अध्यक्ष

पीएम मोदी का जन्मदिन आज, देश-विदेशों से मिली बधाईयां

चांद पर उतरते समय विक्रम का संपर्क टूटा

तबरेज अंसारी मॉब लिंचिंग मामले में एक और खबर ने मचाई सनसनी

भारत की दो महिलाओं ने चंद्रयान-2 मिशन में निभाया अहम रोल

पटाखा फैक्ट्री में लगी आग

असम में अस्पताल की बड़ी लापरवाही

आज चाँद पर उतर जायेगा भारत का यान

जिंदाबाद और अमर रहे के नारे शहीदों के परिवारों और बच्चों के खाली पेट नहीं भर सकते ।”

काला बाजारी से निपटने के लिए पुलिस ने खोले अलग विभाग

चूड़ियों से गणेश की मूर्ति तैयार