स्वतंत्रता के अधिकार का उलझता जाल

Published : Jun 11, 2019 09:05 pm | By: National Mindset News

185 views

कहते है लोग देश में सस्ती लोकप्रियता और सामाजिक अपराध करने की परवर्ती का ज़माना अब चला गया, किंतु शायद यह सिर्फ़ नेताओ के लिए ख़त्म हुआ है क्योंकि यह हथकंडा नेता अपनाते थे, जनता बेख़बर होती थी।समय बदला राजनीति बदली देश बदला रजनीतिज्ञो को समझ आ गया वोटर अब वो वोटर नहीं रहे जो सिर्फ़ जाति, समुदाए और तुष्टिकरन पर वोट डाल आयें, और उसपर मीडिया का ख़तरा यह की अगर एक भी लोकप्रियता का हथकंडा पकड़ा गया तो जनता तो कूटेगी ही जेल की रोटी अलग। जेएनयू के कनहेय्या से लेकर राहुल गांधी तक को जनता ने इस खेल में छक्के छुड़ा दिये हैं।


सुप्रीम कोट ने तथाकथित पत्रकार प्रशान्त कनौजिया को रिहा करने के आदेश दये  है दरअसल यह समझना होगा अपराध तो हुआ है, कानून ब्यनस्था को चुनौती भी दी गय़ी है केय़ोकि य़ोगी आदित्य़ नाथ य़ोगी भी है, जिनका स्वय़ं से किय़े गये सन्य़ास की मर्य़ादा भंग होती है वही दूसरी ओर सूबे के लोकप्रिय़ मंत्री होने के साथ लोगो मे अशांति और असंतोष बढता है एसी भीड़ हर समय़ लाँ आर्डर को चुनौती दे रही होती है । फिर भी न्य़ाय़ालय़ के प्रथम द्रस्ढा कानून मे अपराधी को झोड़ दिय़ा जाता है। दरअसल समझते है इस माजरे को रातो रात चर्चा मे आने का अब यह बीड़ा उठाया है, बुधिजीवियो और पत्रकारों ने, जिन्हें बहुत जल्दी तेज़ गति से चर्चा पानी होती है। बदले ज़माने में अपराध के लिए आपरिधिक प्रवृति को बंदूक़ और गोला बारूद की ज़रूरत नहीं होती, बेतहाशा उग आए चैनल और बाढ़ की जल प्रवाह के समान उमड़ती घूमड़ती सोसल मीडिया में एक मुट्टी बारूद मिलाना होता है।बुधिजीवि और पत्रकार बड़ी आसानी से यह कार्य कर डालते है, जो रजनितज्ञ अब नहीं कर सकते। आप इस घटना को इस तरह से समझने का प्रयास करें, अभी अमिताभ बच्चन का ट्विटर एक आतंकवादी द्वारा हेक हो जाता है, एक आतंकी अपनी बात इस माध्यम से लोगों तक पहुँचा देता है। अब सभी जानते यह एक आतंकवादी हरकत है ठीक इसी तरह एक मानसिक रूप से विक्षिप्त महिला के प्रलाप से सभी वाक़िफ़ हैं और किसी ने अपने चैनल या अन्य मीडिया ने इस झूठे ख़बर पर चर्चा उचित नहीं समझा। ऐसे में पत्रकारिता के बहाने एक व्यक्ति इस ख़बर को ब्रेकिंग न्यूज़ की तरह अपने चैनल पर पेश करता है।सोसल मीडिया के माध्यम से अपराध के लिए प्रशांत कनौजिया इसी लड़ी की एक कड़ी है। प्रशांत २०१५-१६ बैच में IIMC का संस्थान से बर्खास्त किया हुआ छात्र है, जिसे लिखित मफिनामे के बाद डिग्री दी गई थी। प्रशांत से ठीक जूनियर इसी संस्थान के छात्र राघवेंद्र का कहना है, इसमें पत्रकार जैसी कोई बात नहीं थी, यह शुरू से ही रातों रात चर्चे में आना चाहता था। साथियों को जाती समुदय के नाम पर उकसाना, शिक्षकों को गालियाँ देना, संस्थान प्रमुख को अदालत में ले जाने की धमकी देना जैसे अपराध ही इसकी प्रविरती रही है। आज इसने अगर एक विक्षिप्त महिला के अनर्गल प्रलाप को अपनी ब्रेकिंग न्यूज़ स्टोरी बनाई तो यह एक घटना नहीं एक सोची समझी रणनीति के तहत किया गम्भीर अपराध है, ।

भारत के अन्दर खबरो का प्लान्ट किया जाना कोई नयी बात नही है। कभी कभी इन दोषियो को पकड़ा भी गया है। और कभी कभी इस तरह की साजिशो ने खुद ही बिना नुकसान के दम तोड़ दिया। किन्तु दो दिनो से प्रशान्त कनौजिया पर उठे सवालो ने मीडिया और बुद्धि जीवियो को झकझोर दिया क्योकि यह खबरो को प्लांट करने वाले नही बल्कि आधार विहीन और मानसिक रूप से दिवालिया एक महिला के अनर्गल प्रलाप को अपने मीडिया माध्यम से देश मे सनसनी फैलाने का मामला है। आज सरकार की नीतियो के खिलाफ खड़े चैनल भी एसे वीडियो को दिखाना अनावश्क और कानूनी दोषयुक्त मानत रहे हे।किन्तु एक ब्यक्ति अगर अपने रोष.और पागलपन में इन झूठी खबरो को अपने चैनल पर सजाकर पेश करता है और स्वय़ं को पत्रकार कहता है। और कुछ पत्रकार उतके पक्ष मे टिप्पणिय़ां करते है तो य़ह एक गंभीर विषय़ है उस मानसिक रूप से डिस्टर्ब उस महिला से अधिक गंभीर विषय़ देश के कुछ पत्रकारो के अनर्गल प्रलाप और स्वय़ं को इस इस घटना से अलग दोषी प्रशांत का समर्थन है। दिलचस्प य़ह कि इनमे से कोई पत्रकार इस वीडिय़ो को सही मानते और न ही इसे अपने चैनल अथवा पर्सनल सोशल मीडिय़ा पर चलाय़ा किन्तु प्रशांत के कुक्रत्य़ खबर पर हांथ मे मोमब्त्ती लेकर खड़े हो गय़े । ट्वीटर पर एक झूठी घटना पर बनी खबर पर टिप्पणी लिख दी कुछ पत्रकारो के नाम लिए बिना मै उनकी टिप्पणी जरूर शामिल करना चाहूँगा ।

 हमारे एक मित्र लिखते है ,पत्रकारो का काम नेता की सुरक्षा नही है। एक कहते है ,य़ह तो पत्रकारिता पर भाजपा सरकार का आघात है ।

मै आपको बता दूँ न ब्य़क्तिगत रूप से न ही सार्वजनिक रूप से य़े पत्रकार इस घटना और वीडिय़ो का समर्थन करते है ।

 अब आइए हम आपको प्रशांत के विषय़ मे बताते है जिसने एक अनर्गल प्रलाप को एक मठाधीश संय़ासी और देश के लोकप्रिय़ मुख्य़ंत्री को निशाना बनाकर देश मे समसनी फैलाने का प्रय़ास किय़ा है क्य़ोकि य़ह समझना होगा य़ोगी सिर्फ एक मुख्मंत्री नही आजीवन संय़ासी के प्रण से बंधे खुद मठ के ग्रुप भी है जिनके विषय़ मे इस तरह की घटना स्वय़ं मे जिय़े मानहानि का विषय़ है । साथ ही करोड के प्रदेश से ऐसे मुख्यमंत्री जिनके एक सभा मे पहुचने भर से लाखो की भीड़ इकट्ठी हो जाती है ।     


Nationalmindset TV Analysis

Prediction        Result
View More

प्लास्टिक के बदले मिलेगा अनाज

पांच दिन में फिर बढ़े पेट्रोल और डीजल के भाव

सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म ड्राइव होगी नेटफ्लिक्स पर रिलीज

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने जनसभा को किया संबोधित

फेडरल बैंक में शुक्रवार रात लगी भीषण आग

विशाखापत्तनम में भांग को पुलिस ने किया नष्ट

मुझे नहीं पता कि रामायण में हनुमान जी संजीवनी बूटी किसके लिए लेकर गए थे: सोनाक्षी सिन्हा

महाराष्ट्र और हरियाणा में आज विधानसभा चुनावों का हुआ ऐलान

किसी भाषा का विरोध नही होना चाहिए- वेंकैया नायडू

जम्‍मू-कश्‍मीर भारत का अभिन्‍न अंग है- सैयद सलमान चिश्ती

पिछले पांच वर्षों में कितनी बदली महिलाओं की हालत, क्या रह गया बाकी।

मुसलमानों ने थामा कमल, रंग चढ़ा इंद्रेश कुमार का

PM Modi tendered his resignation to Ram Nath Kovind along with the Council of Ministers

मोदी की सुनामी में उड़ गई वंशवाद की राजनीति, मुख्यमंत्रियों के बेटे-बेटी से लेकर ‘महाराज’ तक हारे

सपने कितने ही सुहाने क्यों न हों, तब तक पूरे नहीं होते जब तक साथियों की सोच काम को लेकर एक जैसी नहीं होती है - प्रधानमंत्री

सीमा पर तैनात वीर जवानों को बच्चों ने कहा "Thank you", खूबसूरत कार्ड बनाकर व्यक्त की अपनी भावनाएं

Modi- Didi face-off in high stakes Bengal battle

"Villains end entire negativity on screen" Shailendra Shrivastava

बिहार में जाति धर्म से ऊपर उठकर विकास के मुद्दे पर वोट कर रहे हैं युवा, जातीय समीकरण को लग सकता है झटका।

हिन्दुत्व के मुद्दे पर लड़ी जाएगी भोपाल की जंग, दिग्गज दिग्विजय के खिलाफ बीजेपी ने उतारा साध्वी प्रज्ञा को।