सपने कितने ही सुहाने क्यों न हों, तब तक पूरे नहीं होते जब तक साथियों की सोच काम को लेकर एक जैसी नहीं होती है - प्रधानमंत्री

Published : May 25, 2019 07:53 pm | By: National Mindset News

563 views

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति से मिलकर अपना और अपने कैबिनेट सहयोगियों का इस्तिफा सौंपा और 16वीं लोकसभा को भंग करने की सिफारिश की जिसे स्वीकार करते हुए राष्ट्रपति ने लोकसभा भंग कर दी और नयी सरकार के गठन होने तक प्रधानमंत्री को पद पर बने रहने का निर्देश दिया। इससे पहले पीएम ने प्रधानमंत्री कार्यालय के स्टाफ से बात की। पीएम ने पीएमओ में कार्यरत कर्मचारियों की जमकर तारीफ की। पीएम ने कहा कि कोई भी परिणाम तब तक नहीं मिलता, जब तक कोई समर्पित टीम नहीं मिलती है। सपने कितने ही सुहाने क्यों न हों, तब तक पूरे नहीं होते जब तक साथियों की सोच काम को लेकर एक जैसी नहीं होती है। पीएम ने बीज गणित के फॉर्म्युले का जिक्र कर पीएमओ कर्मियों की ऊर्जा के बारे में बताया।


पीएम ने कहा, पांच साल की अखंड एकनिष्ठ साधना, जिसका लक्ष्य देश के समान्य व्यक्ति के जीवन में आशा और बदलाव संचारित करना।'इन सब कामों का क्रेडिट तो पीएम को मिलता है। टीवी-अखबार में पीएम दिखता है, तारीफ भी पीएम को मिलती है, लेकिन जब तक कोई समर्पित टीम नहीं होती है, तब तक सपने कितने ही सुहाने और संकल्प कितने ही दृढ़ क्यों न हों, इरादे कितने ही नेक क्यों न हों, परिणाम मिलना मुश्किल होता है। परिणाम तब मिलता है, जब पीएम की सोच और साथियों की सोच एक साथ मिलती हो। मोदी ने कहा, 'पांच साल तक, जिस इरादे से 2014 में चले थे 201 तक हमने अपने मार्ग में जरा भी भटकाव नहीं आने दिया। हम समर्पण बढ़ाते गए। लोगों की अपेक्षाओं के कारण काम का दबाव बढ़ता गया। लोगों के विश्वास के कारण जब दबाव बढ़ता है तो वह ऊर्जा में बदल जाता है। पीएम ने वहां मौजूद पीएमओ कर्मियों से कहा,'आपने भी महसूस किया होगा कि पूर्व के कार्यकाल की अपेक्षा आपको भी परिवर्तन महसूस हुआ होगा। वह ऊर्जा लोगों की अपेक्षा से ही आई है।पीएम ने कहा, 'बीज गणित में पढ़ाते थे , जब इसे खोलते थे तो कहते थे  यह कहां से आया है? ये  जो ब्रेकिट में से एक्स्ट्रा एनर्जी पैदा हुई, ये विश्वास की एनर्जी है। पीएम ने पीएमओ कर्मियों से कहा, 'मेरा अब तक का अनुभव है कि आप लोगों ने मेरी अपेक्षा से ज्यादा परिणाम दिया है। समय की कल्पना से पहले दिया है। सुचारू ढंग से किया और सुचिता के साथ दिया है। यह पूरी टीम अभिनंदन की अधिकारी हैं। पीएम ने कहा कि हम नहीं चाहते कि प्रधानमंत्री कार्यालय इफेक्टिव हो, हम चाहते हैं कि पीएमओ एफिशंट हो। एफिशंसी के परिणाम की मात्रा बहुत अधिक होती है। 'आपमें से कई लोग हैं, जिन्होंने बहुत प्रधानमंत्री और मंत्री देखे हैं, लेकिन मैं पहला प्रधानमंत्री हूं, जिसने आपको देखा है। आपने मुझे कभी अकेलापन महसूस नहीं होने दिया, काम का बोझ मुझ पर नहीं आने दिया। आपके विचारों ने मुझे ताकत दी है।


Nationalmindset TV Analysis

Prediction        Result
View More

राहुल गांधी को जम्मू जाने की नही मिली अनुमति

यूपी में तीन तलाक का मामला फिर आया सामने

अरुण जेटली का अंतिम संस्कार रविवार 2 बजे होगा

प्रियंका चोपड़ा को यूनिसेफ से पाक ने की हटाने की मांग

भारतीय टीम की धमाकेदार गेंदबाजी

बुजुर्ग महिला ने शौचालय की सफाई से गुजारी जिंदगी

सीएम योगी ने गोरखनाथ मंदिर में मनाई जन्माष्टमी

मुबंई में जन्माष्टमी की धूम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यूएई के दौरे पर

महाराष्ट्र में इमारत गिरने से 2 का मौत

पिछले पांच वर्षों में कितनी बदली महिलाओं की हालत, क्या रह गया बाकी।

मुसलमानों ने थामा कमल, रंग चढ़ा इंद्रेश कुमार का

PM Modi tendered his resignation to Ram Nath Kovind along with the Council of Ministers

मोदी की सुनामी में उड़ गई वंशवाद की राजनीति, मुख्यमंत्रियों के बेटे-बेटी से लेकर ‘महाराज’ तक हारे

सपने कितने ही सुहाने क्यों न हों, तब तक पूरे नहीं होते जब तक साथियों की सोच काम को लेकर एक जैसी नहीं होती है - प्रधानमंत्री

Modi- Didi face-off in high stakes Bengal battle

सीमा पर तैनात वीर जवानों को बच्चों ने कहा "Thank you", खूबसूरत कार्ड बनाकर व्यक्त की अपनी भावनाएं

"Villains end entire negativity on screen" Shailendra Shrivastava

बिहार में जाति धर्म से ऊपर उठकर विकास के मुद्दे पर वोट कर रहे हैं युवा, जातीय समीकरण को लग सकता है झटका।

हिन्दुत्व के मुद्दे पर लड़ी जाएगी भोपाल की जंग, दिग्गज दिग्विजय के खिलाफ बीजेपी ने उतारा साध्वी प्रज्ञा को।