जिंदाबाद और अमर रहे के नारे शहीदों के परिवारों और बच्चों के खाली पेट नहीं भर सकते ।”

Published : Sep 13, 2019 06:05 pm | By: News Mindset

जिंदाबाद और अमर रहे के नारे शहीदों के परिवारों और बच्चों के खाली पेट नहीं भर सकते ।”

75 views

गणतंत्र दिवस 1990 से एक दिन पहले, श्रीनगर के रावलपोरा मे स्क्वाड्रन लीडर रवि खन्ना और उनके तीन सहयोगियों पर कार सवार आतंकवादियों ने गोलीबारी की  थी । यह  आतंकवादी हमला यासीन मलिक के द्वारा संचालित समूह के थे । जांच के दौरान, कई चश्मदीद गवाहों ने गोलीबारी के लिए मलिक को जिम्मेदार ठहराया । 1990 में, जम्मू में टाडा अदालत में सीबीआई द्वारा मलिक के खिलाफ दो आरोप पत्र दायर किए गए थे । 7 सितंबर 2019 को टाडा की एक अदालत ने यासीन मलिक के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी किया था  


 

गणतंत्र दिवस 1990 से एक दिन पहले, श्रीनगर के रावलपोरा मे स्क्वाड्रन लीडर रवि खन्ना और उनके तीन सहयोगियों पर कार सवार आतंकवादियों ने गोलीबारी की  थी । यह  आतंकवादी हमला यासीन मलिक के द्वारा संचालित समूह के थे । जांच के दौरान, कई चश्मदीद गवाहों ने गोलीबारी के लिए मलिक को जिम्मेदार ठहराया । 1990 में, जम्मू में टाडा अदालत में सीबीआई द्वारा मलिक के खिलाफ दो आरोप पत्र दायर किए गए थे । 7 सितंबर 2019 को टाडा की एक अदालत ने यासीन मलिक के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी किया था  

यासिन मलिक के आतंकवादी यातनाओ को याद करते हुए शहीद रवि खन्ना की पत्नी  ने  यह बताया की इस घटना ने कैसे उनके पूरे परिवार को तोड कर रख दिया “ यासीन ने न केवल मेरे पति की हत्या की, बल्कि मेरी सास, मेरे ससुर और मेरी माँ की भी हत्या कर दी। मेरे दो बच्चों ने अपना बचपन खो दिया। एक सेकंड में हमारी खुशी छीन ली गई। इस आतंकवादी ने हमारी दुनिया को उलट दिया। मेरे पति ने अपनी बेटी को जन्म के छह महीने बाद देखा था  ,,  जिंदाबाद और अमर रहे के नारे शहीदों के परिवारों और बच्चों के खाली पेट नहीं भर सकते ।”

इन्होने यह भी बताया की जब 17 फरवरी, 2006 को तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने यासीन मलिक से हाथ मिलाया।

“मुझे उम्मीद नहीं थी कि वह किसी आतंकवादी से हाथ मिलाएगा। पीएम होने के नाते उन्हें सही और गलत के बीच का अंतर पता होना चाहिए था। जब मनमोहन सिंह ने मलिक से हाथ मिलाया, तो मुझे अपने पति के सर्वोच्च बलिदान का घोर अपमान महसूस हुआ। ऐसा लगा जैसे पूरी दुनिया ने मेरा मज़ाक उड़ाया है |

यासिन मलिक को इस साल 22 फरवरी को पुलवामा आतंकी हमले के बाद उनके श्रीनगर स्थित आवास से गिरफ्तार किया गया था। वह वर्तमान में सार्वजनिक सुरक्षा अधिनियम के तहत नई दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद है।

 

 


Nationalmindset TV Analysis

Prediction        Result
View More

राजधानी दिल्ली में गणतंत्र दिवस को लेकर चाक चौबंद तैयारियां

मध्य प्रदेश: 8वीं पास पढ़ा रहा था सरकारी स्कूल में, कहा मिलते थे 4 हजार रु. महीना

कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने किया स्वराज कौशल पर पलटवार

'महाराष्ट्र में हुए गैर-भाजपा नेताओं के फोन टैप'

संजीव बालियान के बिगड़े बोल, कहा- पश्चिमी उत्तर प्रदेश के छात्रों का JNU और जामिया में 10 फीसदी आरक्षण करवा दें, वह सबका इलाज कर देंगे

सहयोगी पार्टी छोड़ने और किसी अन्य पार्टी के साथ जुड़ने के लिए स्वतंत्र: नीतीश कुमार

केंद्रीय मंत्री संजीव बाल्यान का विवादित बयान,कहा वेस्ट यूपी वाले कर देंगे राष्ट्र विरोधी नारे लगाने वालों का इलाज

भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध की आशंका को लेकर सुखोई-30 तैनात

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले में साकेत कोर्ट ने सुनाई सजा

जेपी नड्डा बने BJP के 11वें राष्ट्रीय अध्यक्ष

पीएम मोदी का जन्मदिन आज, देश-विदेशों से मिली बधाईयां

चांद पर उतरते समय विक्रम का संपर्क टूटा

तबरेज अंसारी मॉब लिंचिंग मामले में एक और खबर ने मचाई सनसनी

भारत की दो महिलाओं ने चंद्रयान-2 मिशन में निभाया अहम रोल

पटाखा फैक्ट्री में लगी आग

असम में अस्पताल की बड़ी लापरवाही

आज चाँद पर उतर जायेगा भारत का यान

काला बाजारी से निपटने के लिए पुलिस ने खोले अलग विभाग

चूड़ियों से गणेश की मूर्ति तैयार

जिंदाबाद और अमर रहे के नारे शहीदों के परिवारों और बच्चों के खाली पेट नहीं भर सकते ।”