अयोध्या मंदिर निर्माण: SC में दाखिल सभी पुर्नविचार याचिकाएं खारिज

Published : Dec 13, 2019 05:37 pm | By: Priyanka .

22 views

अयोध्या में मंदिर निर्माण का रास्ता साफ होने के बाद भी गतिरोध थमने का नाम नही ले रहा था.



अयोध्या में मंदिर निर्माण का रास्ता साफ होने के बाद भी गतिरोध थमने का नाम नही ले रहा था.
लेकिन सुप्रीम कोर्ट के ताजा फैसले के बाद इस पर विराम लगता दिख रहा है. क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने कोर्ट में दाखिल सभी 18 पुर्नविचार याचिकाओं को खारिज कर दिया है. बताते चलें कि पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने एकमत से 2.77 एकड़ विवादित भूमि रामलला को देने का फैसला सुनाया था। साथ ही केंद्र को सुन्नी वक्फ बोर्ड को मस्जिद निर्माण के लिए पांच एकड़ जमीन देने का निर्देश दिया था। 
बता दें कि उपरोक्त फैसला सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने सुनाया है. इस पीठ में जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस एस अब्दुल नजीर और जस्टिस संजीव खन्ना खामिल थे.


 


Nationalmindset TV Analysis

Prediction        Result
View More

भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध की आशंका को लेकर सुखोई-30 तैनात

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले में साकेत कोर्ट ने सुनाई सजा

जेपी नड्डा बने BJP के 11वें राष्ट्रीय अध्यक्ष

निर्भया गैंगरेप केस में आरोपी पवन पर सुनवाई, SC ने जताई कड़ी नाराजगी

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल आज कर रहे हैं नामांकन

इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने की राहुल गांधी की आलोचना

जम्मू-कश्मीर के डीएसपी देवेंद्र सिंह के खिलाफ यूएपीए (UAPA) के तहत मामला दर्ज

वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंग पर भड़कीं निर्भया की मां आशा देवी

पूर्व SAI प्रमुख नीलम कपूर: यौन उत्पीड़न के मामलों की संख्या पहले से ज्यादा बढ़ी!

असदुद्दीन ओवैसी ने सीडीएस जनरल बिपिन रावत से पूछा- अखलाक और पहलु खान के हत्यारों को कौन समझाएगा ?

पीएम मोदी का जन्मदिन आज, देश-विदेशों से मिली बधाईयां

चांद पर उतरते समय विक्रम का संपर्क टूटा

तबरेज अंसारी मॉब लिंचिंग मामले में एक और खबर ने मचाई सनसनी

भारत की दो महिलाओं ने चंद्रयान-2 मिशन में निभाया अहम रोल

पटाखा फैक्ट्री में लगी आग

असम में अस्पताल की बड़ी लापरवाही

चूड़ियों से गणेश की मूर्ति तैयार

आज चाँद पर उतर जायेगा भारत का यान

नवरात्रि के मौके पर सूरत में टैटू की बढ़ी मांग

जिंदाबाद और अमर रहे के नारे शहीदों के परिवारों और बच्चों के खाली पेट नहीं भर सकते ।”