हिन्दुत्व के मुद्दे पर लड़ी जाएगी भोपाल की जंग, दिग्गज दिग्विजय के खिलाफ बीजेपी ने उतारा साध्वी प्रज्ञा को।

Published : Apr 18, 2019 07:30 pm | By: National Mindset News

405 views

भोपाल लोकसभा सीट पर मुकाबला दिलचस्प हो गया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के खिलाफ बीजेपी ने मालेगांव बम धमाकों की आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को मैदान में उतारा है। बीजेपी से टिकट मिलने के तुरंत बाद साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि दिग्विजय ने सनातन धर्म और भगवा को अपमानित किया है। मैं भगवा को सम्मान दिलाकर रहूंगी। समझौता एक्सप्रेस धमाका और मालेगांव बम धमाकों के बाद दिग्विजय सिंह ने भगवा आतंकवाद के जुमले को खूब हवा दी थी और आरएसएस को आतंकवाद से जोड़ने की कोशिश की थी।


भोपाल से दिग्विजय सिंह की उम्मीदवारी के बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा था, 'भाजपा ने तय किया है कि साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को भगवा आतंकवाद शब्द के जन्मदाता दिग्विजय सिंह के खिलाफ चुनाव मैदान में उतारेगी।' भगवा कपड़े पहनने वाली ठाकुर को उनके कटे हुये बालों और गले में पड़ी रूद्राक्ष की माला से सहज ही पहचाना जा सकता है। वह पहली बार सुर्खियों में आयी थीं जब महाराष्ट्र के आतंकवाद विरोधी दस्ते ने 2008 में उन्हें मालेगांव बम धमाके मामले में गिरफ्तार किया था। इस बहुचर्चित मामले में वह इन दिनों जमानत पर हैं। इतिहास में एमए, प्रज्ञा का जन्म मध्य प्रदेश के भिंड जिले में हुआ था और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से उनका लंबा नाता रहा है। अब भाजपा ने उन्हें भोपाल संसदीय सीट से प्रत्याशी घोषित कर दिया है जहां उनका मुकाबला कांग्रेसी दिग्गज और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह से होगा। पिछले दिनों भोपाल से उनके नाम की चर्चा शुरू होने पर साध्वी ने कहा था ‘‘मैं धर्म युद्ध के लिए तैयार हूं।’’ उनका कहना था, ‘‘मैं दिग्विजय सिंह से भिड़ने के लिए तैयार हूं, अगर संगठन मुझसे ऐसा करने के लिए कहता है।’’ उन्होंने राज्य के इस पूर्व मुख्यमंत्री को ऐसे हिंदू विरोधी नेता की संज्ञा दी जो हिंदुओ को आतंकवादी बताता है। बीजेपी का मानना है कि कांग्रेस के नेताओं ने मुसलमानों को खुश करने के लिए एक साजिश के तहत भगवा आतंकवाद का जुमला गढ़ा और और इसे साबित करने के लिए साध्वी प्रज्ञा और स्वामी असीमानंद जैसे लोगों को फर्जी मामलों में फंसाया गया। समझौता धमाका मामले में असीमानंद सहित सारे आरोपी कोर्ट से बरी हो चुके हैं और मालेगांव मामले में भी एनआईए अदालत ने साध्वी प्रज्ञा के खिलाफ मकोका कानून के तहत लगे आरोपों को हटा दिया था। 2013 में तत्कालीन गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा था कि आरएसएस-बीजेपी आतंकवाद को बढ़ावा दे रहे हैं और आरएसएस के कैंपों में आतंकवाद की ट्रेनिंग दी जाती है। बाद में अपने बयान पर सफाई देते हुए उन्होंने कहा कि हिंदू आतंकवाद का मतलब भगवा आतंकवाद से है। मैं भगवा आतंकवाद ही कहना चाहता हूं। बाद में दिग्विजय सिंह सहित तमाम कांग्रेसी नेताओं ने भगवा आतंकवाद के जुमले को खूब भुनाया। अब 6 साल बाद बीजेपी को मौका मिला है दिग्विजय सिंह को घेरने का और इसके लिए साध्वी प्रज्ञा से बेहतर कोई नाम हो ही नहीं सकता, और साध्वी प्रज्ञा भी दिग्गी राजा को हिन्दुत्व की ताकत का स्वाद चखाने के लिए कमर कस चुकी हैं।      


Nationalmindset TV Analysis

Prediction        Result
View More

किसी भाषा का विरोध नही होना चाहिए- वेंकैया नायडू

जम्‍मू-कश्‍मीर भारत का अभिन्‍न अंग है- सैयद सलमान चिश्ती

अब पैन कार्ड वेरिफिकेशन घर बैठे ही करवाएं, जानिए कैसे

तुलसी गब्बाड ने प्रधानमंत्री का स्वागत करने के बाद मांगी मांफी

भारत अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को एकजुट होकर कार्य करना चाहिए- सैयद अकबरुद्दीन

इमरान हाशमी ने अमर जवान ज्योति पर दी देश के बहादुरों को श्रद्धांजलि

पति ने की अपनी पत्नी की हत्या

मुंबई के कई इलाकों में गैस लीक की खबर मिली

गणेश चतुर्थी के बाद मूर्ति विसर्जन के बाद नदियों में बढ़ा प्रदूषण

जम्मू-कश्मीर का फैसला भारत का आंतरिक मामला है- पूर्व सचिव कुमम मिनी देवी

पिछले पांच वर्षों में कितनी बदली महिलाओं की हालत, क्या रह गया बाकी।

मुसलमानों ने थामा कमल, रंग चढ़ा इंद्रेश कुमार का

PM Modi tendered his resignation to Ram Nath Kovind along with the Council of Ministers

मोदी की सुनामी में उड़ गई वंशवाद की राजनीति, मुख्यमंत्रियों के बेटे-बेटी से लेकर ‘महाराज’ तक हारे

सपने कितने ही सुहाने क्यों न हों, तब तक पूरे नहीं होते जब तक साथियों की सोच काम को लेकर एक जैसी नहीं होती है - प्रधानमंत्री

सीमा पर तैनात वीर जवानों को बच्चों ने कहा "Thank you", खूबसूरत कार्ड बनाकर व्यक्त की अपनी भावनाएं

Modi- Didi face-off in high stakes Bengal battle

"Villains end entire negativity on screen" Shailendra Shrivastava

बिहार में जाति धर्म से ऊपर उठकर विकास के मुद्दे पर वोट कर रहे हैं युवा, जातीय समीकरण को लग सकता है झटका।

हिन्दुत्व के मुद्दे पर लड़ी जाएगी भोपाल की जंग, दिग्गज दिग्विजय के खिलाफ बीजेपी ने उतारा साध्वी प्रज्ञा को।