बीजेपी का फिर से पुराने घोङों पर दाव, नहीं कटेंगे किसी भी केन्द्रीय मंत्री के टिकट।

Published : Mar 18, 2019 05:57 pm | By: National Mindset News

112 views

बिहार से जुड़े सभी केंद्रीय मंत्रियों के टिकट बीजेपी ने लगभग तय कर दिए हैं। इसके साथ ही यह तय हो गया है कि पार्टी फिर से अपने पुराने घोङों पर ही दाव खेलने जा रही है। ऐसा माना जा रहा था कि जिन मंत्रियों का काम ठीक नहीं रहा है, इसबार उनका टिकट कट सकता है, लेकिन बिहार से आने वाले सभी मंत्रियों को दोबारा मौका देकर बीजेपी ने पक्का कर दिया है कि किसी भी केन्द्रीय मंत्री का टिकट कटने नहीं जा रहा है।


बीजेपी के इस फैसले के पीछे पार्टी की यह सोच भी हो सकती है कि किसी मंत्री का टिकट काटने से जनता में गलत संदेश जा सकता है कि सरकार का एक मंत्रालय पांच साल तक नाकारा मंत्री के हाथ में रहा, इसलिए वहां कोई काम नहीं हुआ होगा। एक ओर जब बीजेपी, सरकार के पांच साल के बेहतर काम  और विकास को लेकर ही जनता के सामने जा रही है, ऐसे में कोई भी नकारात्मक संदेश जाना ठीक नहीं होगा। लेकिन सवाल यह भी है कि जिन मंत्रियों ने पांच साल तक कुछ भी साबित नहीं किया, बङे बङे मंत्रालय लेकर बैठे रहे और कोई उपलब्धि हासिल नहीं कर पाये, ऐसे मंत्रियों को फिर से टिकट देकर भी बीजेपी मतदाताओं को कोई बहुत अच्छा संदेश नहीं देने जा रही। साथ ही सरकार की छवी को लगातार चमका कर रखने वाले मेहनती और कर्मठ मंत्रियों के मनोबल को भी नीचे गिराएगा। जाहिर सी बात है कि जब बिना काम किये भी पुरस्कार मिलना ही है तो फिर दिन रात काम करने का क्या फायदा। बिहार की प्रमुख सीटों पर बीजेपी के संभावित उम्मीदवारों की बात करें तो छपरा से राजीव प्रताप रुडी, पाटलिपुत्र से रामकृपाल यादव को टिकट मिलना तय है। वहीं पटना साहिब से शत्रुघ्न सिन्हा का टिकट काटकर इस बार यहां से केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद को उतारा जाएगा। इसी तरह पूर्वी चंपारण से कृषि मंत्री राधामोहन सिंह, आरा से आके सिंह के टिकट पर मुहर लग चुकी है। अश्विनी चौबे बक्सर से ही लङेंगे लेकिन गिरिराज सिंह की नवादा सीट एलजेपी के खाते में चले जाने के बाद पार्टी उनको बेगूसराय से उतारने का मन बना चुकी है। पार्टी के इस फैसले से गिरिराज सिंह खुश नहीं हैं। उन्होंने चुनाव नहीं लड़ने तक के संकेत दे दिए हैं। बेगूसराय से बीजेपी के एमएलसी रजनीश कुमार यहां से टिकट के प्रबल दावेदार माने जा रहे थे। क्षेत्र में उन्होंने काफी काम किया है और जनता के बीच काफी लोकप्रिय भी हैं। उनका टिकट काटकर गिरिराज सिंह को उतारने के फैसले से स्थानीय कार्यकर्ताओं में भी काफी नाराजगी है। बिहार में बीजेपी और जदयू 17-17 सीटों पर जबकि लोजपा 6 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। इस बंटवारे में बीजेपी को अपनी गया, सीवान, वाल्मीकिनगर, गोपालगंज, झंझारपुर और नवादा की जीती हुई सीटें छोड़नी पङी हैं। इनमें पांच जदयू के लिए, जबकि एक लोजपा के लिए छोड़ी गई है। 2014 में एनडीए बिहार के सीमांचल में एक भी सीट नहीं जीत पाई थी। यहां मुस्लिम और यादव वोटरों का प्रभाव ज्यादा है। इसलिए इस क्षेत्र में आने वाली सुपौल, किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया और मधेपुरा सीट की जिम्मेदारी इस बार जदयू को दी गई है। बीजेपी अररिया से शाहनवाज हुसैन को मैदान में उतार सकती है।

 


Nationalmindset TV Analysis

Prediction        Result
View More

हाउडी मोदी कार्यक्रम से पहले आयोजित की गई एक कार रैली

प्लास्टिक के बदले मिलेगा अनाज

पांच दिन में फिर बढ़े पेट्रोल और डीजल के भाव

सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म ड्राइव होगी नेटफ्लिक्स पर रिलीज

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने जनसभा को किया संबोधित

फेडरल बैंक में शुक्रवार रात लगी भीषण आग

विशाखापत्तनम में भांग को पुलिस ने किया नष्ट

मुझे नहीं पता कि रामायण में हनुमान जी संजीवनी बूटी किसके लिए लेकर गए थे: सोनाक्षी सिन्हा

महाराष्ट्र और हरियाणा में आज विधानसभा चुनावों का हुआ ऐलान

किसी भाषा का विरोध नही होना चाहिए- वेंकैया नायडू

पिछले पांच वर्षों में कितनी बदली महिलाओं की हालत, क्या रह गया बाकी।

मुसलमानों ने थामा कमल, रंग चढ़ा इंद्रेश कुमार का

PM Modi tendered his resignation to Ram Nath Kovind along with the Council of Ministers

मोदी की सुनामी में उड़ गई वंशवाद की राजनीति, मुख्यमंत्रियों के बेटे-बेटी से लेकर ‘महाराज’ तक हारे

सपने कितने ही सुहाने क्यों न हों, तब तक पूरे नहीं होते जब तक साथियों की सोच काम को लेकर एक जैसी नहीं होती है - प्रधानमंत्री

सीमा पर तैनात वीर जवानों को बच्चों ने कहा "Thank you", खूबसूरत कार्ड बनाकर व्यक्त की अपनी भावनाएं

Modi- Didi face-off in high stakes Bengal battle

"Villains end entire negativity on screen" Shailendra Shrivastava

बिहार में जाति धर्म से ऊपर उठकर विकास के मुद्दे पर वोट कर रहे हैं युवा, जातीय समीकरण को लग सकता है झटका।

हिन्दुत्व के मुद्दे पर लड़ी जाएगी भोपाल की जंग, दिग्गज दिग्विजय के खिलाफ बीजेपी ने उतारा साध्वी प्रज्ञा को।