नरेन्द्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली, गैर कांग्रेसी सरकार के प्रधानमंत्री के तौर पर लगातार दूसरी बार शपथ लेने वाले पहले नेता बने।

Published : May 30, 2019 09:05 pm | By: National Mindset News

52 views

नरेन्द्र मोदी ने भारत के प्रधानमंत्री के तौर पर लगातार दूसरी बार बृहस्पतिवार को पद एवं गोपनीयता की शपथ ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्हें पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलायी। प्रधानमंत्री मोदी ने हिन्दी में ईश्वर के नाम पर शपथ ली। प्रधानमंत्री के अलावा उनके मंत्रीमंडल के 24 कैबिनेट, 9 राज्यमंत्री, स्वतंत्र प्रभार और 24 राज्यमंत्रियों ने भी शपथ ली। स्पष्ट जनादेश वाली गैर कांग्रेसी सरकार के प्रधानमंत्री के तौर पर लगातार दूसरी बार शपथ लेने वाले वह पहले नेता हैं।


राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में आमंत्रित लगभग आठ हजार खास मेहमानों की मौजूदगी में क्रीम रंग का कुर्ता पायजामा एवं अपनी चिरपरिचित जैकेट पहने मोदी ने शपथ लेने के बाद राष्ट्रपति के पास जाकर उनसे गर्मजोशी के साथ हाथ मिलाया और मुस्कुराते हुए उनसे बधाई स्वीकार की।करीब दो घंटे चले शपथ ग्रहण समारोह में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की जीत के सूत्रधार रहे भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और पूर्व विदेश सचिव एस जयशंकर आकर्षण का केंद्र रहे। खासकर जयशंकर को मंत्रिमंडल में शामिल करना और कैबिनेट मंत्री का दर्जा देना नरेन्द्र मोदी की दूरदृष्टि और आने वाले दिनों में भारत की विदेश नीति कैसी होगी इस ओर भी इशारा करता है।  जयशंकर भारतीय विदेश सेवा के दूसरे ऐसे अधिकारी हैं जिन्हें मोदी ने अपने मंत्रिमंडल में स्थान दिया है। सरकार में शामिल किए गए हरदीप सिंह पुरी भी भारतीय विदेश सेवा के वरिष्ठ अधिकारी रहे हैं। नए मंत्रिमंडल में राजग के पुराने सहयोगी जनता दल (यू) ने अपने किसी प्रतिनिधि को शामिल करने से इनकार कर दिया। मोदी के पहले मंत्रिमंडल के प्रमुख सदस्य व भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली व सुषमा स्वराज को नई सरकार में स्थान नहीं मिला है। स्वराज ने जहां इस बार लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा वहीं जेटली ने स्वास्थ्य कारणों से मंत्री बनने से बुधवार को ही इंकार कर दिया था। समारोह में उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस, कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल सहित कई राज्यों के मुख्यमंत्री, कई देशों के प्रमुख, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सहित विभिन्न गणमान्य लोग उपस्थित थे। शपथ ग्रहण समारोह में शिरकत करने वाले ‘‘बंगाल की खाड़ी बहु क्षेत्रीय तकनीकी एवं आर्थिक सहयोग उपक्रम’’ (बिमस्टेक) के नेताओं में बांग्लादेश के राष्ट्रपति अब्दुल हामिद, श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना, नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली, म्यामांर के राष्ट्रपति यू विन म्यिंट एवं भूटान के प्रधानमंत्री लोताय शेरिंग शामिल हैं। मोदी के बाद राजनाथ सिंह और फिर अमित शाह ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली। बेगूसराय में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी उम्मीदवार कन्हैया कुमार को हराने वाले तेज तर्रार नेता गिरिराज सिंह का भी दर्जा बढ़ाकर उन्हें कैबिनेट मंत्री का दायित्व दिया गया है। मोदी के नये मंत्रिमंडल के 24 कैबिनेट मंत्रियों में भाजपा के 20 तथा राजग के घटक शिवसेना, लोजपा एवं शिरोमणि अकाली दल के एक एक सदस्य शामिल हैं। अभी यह स्पष्ट नहीं है कि जयशंकर ने भाजपा की सदस्यता ली है या नहीं। मोदी के कैबिनेट मंत्रियों में मुख्तार अब्बास नकवी एकमात्र मुस्लिम चेहरा हैं। नयी सरकार में जहां भाजपा अध्यक्ष शाह को शामिल किया गया है वहीं उत्तर प्रदेश, बिहार एवं महाराष्ट्र की पार्टी इकाइयों के प्रमुख क्रमश: महेन्द्र नाथ पांडेय, नित्यानंद राय एवं राव साहब दान्वे को भी स्थान दिया गया है। मोदी मंत्रिमंडल के कैबिनेट मंत्रियों में राजनाथ सिंह, अमित शाह, नितिन गडकरी, डी वी सदानंद गौड़ा, निर्मला सीतारमण, राम विलास पासवान, नरेन्द्र सिंह तोमर, रविशंकर प्रसाद, हरसिमरत कौर, थावर चंद गहलोत, डॉ. एस जयशंकर, रमेश पोखरियाल निशंक, अर्जुन मुंडा, स्मृति ईरानी, डॉ. हर्षवर्धन, प्रकाश जावडे़कर, पीयूष गोयल, धर्मेंद्र प्रधान, मुख्तार अब्बास नकवी, प्रहलाद जोशी, डॉ. महेन्द्र नाथ पांडे, अरविंद सावंत, गिरिराज सिंह और गजेन्द्र सिंह शेखावत शामिल हैं। इसके साथ ही नौ स्वतंत्र प्रभार वाले राज्य मंत्रियों ने भी शपथ ली। नयी सरकार में 24 राज्य मंत्रियों ने शपथ ली। राज्य मंत्रियों में रामदास अठावले का भी नाम शामिल है, जो राजग के घटक आरपीआई (ए) के प्रमुख हैं और पिछली मोदी सरकार में भी शामिल थे। सरकार में पहली बार शामिल होने वालों में जयशंकर के अलावा प्रह्लाद जोशी, अरविंद सावंत, अर्जुन मुंडा, रमेश पोखरियाल निशंक, रत्न लाल कटारिया, रामेश्वर तेली, कैलाश चौधरी, नित्यानंद राय, प्रताप चंद्र सारंगी, डी मुरलीधर, सोम प्रकाश, रेणुका सिंह, देबाश्री चौधरी, किशन रेड्डी, राव साहब दानवे, संजय धोत्रे आदि शामिल हैं । अनुराग सिंह ठाकुर मोदी सरकार में पहली बार शामिल किए गए हैं।  नयी सरकार में पिछली सरकार के जिन प्रमुख चेहरों को शामिल नहीं किया गया है उनमें अरूण जेटली, सुषमा स्वराज,  मनोज सिन्हा, सुरेश प्रभु, मेनका गांधी, जे पी नड्डा, राधामोहन सिंह, राज्यवर्द्धन राठौड़, जुएल ओराम, उमा भारती, अनंत गीते, महेश शर्मा, रामकृपाल यादव और के जे अल्फोंस प्रमुख हैं। मेनका गांधी को  लोकसभा अध्यक्ष और जेपी नड्डा को बीजेपी अध्यक्ष बनाये जाने की चर्चा है। मोदी 543 सदस्यीय लोकसभा में कुल 80 मंत्री रख सकते हैं। संविधान के अनुसार प्रधानमंत्री सहित केन्द्रीय मंत्रियों की कुल संख्या लोकसभा सदस्यों के 15 प्रतिशत से अधिक नहीं होनी चाहिए। मोदी से पहले गैर कांग्रेसी नेता के रूप में मोरारजी देसाई, चौधरी चरण सिंह, वीपी सिंह, चन्द्रशेखर, एच डी देवगौड़ा, आई के गुजराल और अटलबिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री पद की शपथ ले चुके हैं।  लेकिन स्पष्ट जनादेश वाली गैर कांग्रेसी सरकार के प्रधानमंत्री के तौर पर लगातार दूसरी बार शपथ लेने वाले नरेन्द्र मोदी पहले नेता हैं। मोदी ने शपथ ग्रहण करने के बाद ट्वीट में कहा, ‘‘भारत की सेवा कर गौरवान्वित हूं।’’ 

 


Nationalmindset TV Analysis

Prediction        Result
View More

राहुल गांधी को जम्मू जाने की नही मिली अनुमति

यूपी में तीन तलाक का मामला फिर आया सामने

अरुण जेटली का अंतिम संस्कार रविवार 2 बजे होगा

प्रियंका चोपड़ा को यूनिसेफ से पाक ने की हटाने की मांग

भारतीय टीम की धमाकेदार गेंदबाजी

बुजुर्ग महिला ने शौचालय की सफाई से गुजारी जिंदगी

सीएम योगी ने गोरखनाथ मंदिर में मनाई जन्माष्टमी

मुबंई में जन्माष्टमी की धूम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यूएई के दौरे पर

महाराष्ट्र में इमारत गिरने से 2 का मौत

पिछले पांच वर्षों में कितनी बदली महिलाओं की हालत, क्या रह गया बाकी।

मुसलमानों ने थामा कमल, रंग चढ़ा इंद्रेश कुमार का

PM Modi tendered his resignation to Ram Nath Kovind along with the Council of Ministers

मोदी की सुनामी में उड़ गई वंशवाद की राजनीति, मुख्यमंत्रियों के बेटे-बेटी से लेकर ‘महाराज’ तक हारे

सपने कितने ही सुहाने क्यों न हों, तब तक पूरे नहीं होते जब तक साथियों की सोच काम को लेकर एक जैसी नहीं होती है - प्रधानमंत्री

Modi- Didi face-off in high stakes Bengal battle

सीमा पर तैनात वीर जवानों को बच्चों ने कहा "Thank you", खूबसूरत कार्ड बनाकर व्यक्त की अपनी भावनाएं

"Villains end entire negativity on screen" Shailendra Shrivastava

बिहार में जाति धर्म से ऊपर उठकर विकास के मुद्दे पर वोट कर रहे हैं युवा, जातीय समीकरण को लग सकता है झटका।

हिन्दुत्व के मुद्दे पर लड़ी जाएगी भोपाल की जंग, दिग्गज दिग्विजय के खिलाफ बीजेपी ने उतारा साध्वी प्रज्ञा को।